Monday, February 22, 2010

कितना तेज़ था रॉकेट...? (How fast was the rocket...?)

विशेष नोट : अगर आप जवाब ढूंढ लेते हैं तो ठीक, वरना कमेंट लिख दीजिएगा, मैं जवाब आपको मेल के जरिये भेज दूंगा...

दो रॉकेट एक ही क्षण पर दो अलग-अलग स्थानों से इस तरह प्रक्षेपित किए गए, ताकि रॉकेट 'ए' ठीक उसी स्थान पर उतरे, जहां से रॉकेट 'बी' प्रक्षेपित किया गया, और रॉकेट 'बी' ठीक उसी स्थान पर उतरे, जहां से रॉकेट 'ए' प्रक्षेपित किया गया...

एक ही कोण से प्रक्षेपित किए जाने की वजह से दोनों रॉकेटों ने हर प्रकार से समान दूरी तय की...

अगर दोनों रॉकेट एक दूसरे से रास्ते में मिलने के बाद क्रमशः एक और नौ घंटे के बाद अपने-अपने गंतव्य पर पहुंचे, तो तेज़ गति से चल रहा रॉकेट धीमी गति से चल रहे रॉकेट की तुलना में कितना तेज़ था...?

Now, the same riddle in English...

Special Note: If you succeed in solving this one, well and good; but in case, you don't, just leave a comment, and I will mail the answer to you...

Two rockets are launched simultaneously from two different positions such that Rocket 'A' will land at the same spot from which Rocket 'B' was launched, and Rocket 'B' will land at the same spot from which Rocket 'A' was launched...

The rockets are launched from the same angle, and hence travel the same distance vertically as well as horizontally...

If the rockets reach their destinations in ONE and NINE hours respectively, after passing each other, how much faster is one rocket from the other...?

26 comments:

  1. जवाब सही नहीं है, अन्तर भाई... फिर कोशिश करें...

    ReplyDelete
  2. Prashant Bhai aur Miess Isha Vijay Goyal... Jawaab sahi nahin hai aapka... Phir koshish karein...

    ReplyDelete
  3. Yeh to sawaal mein hi likha hai, Deepak Bhai... Kuchh to apna khud ka calculate kiya hua bataao, yaar...

    ;-)

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  6. प्रवीण भाई, प्रशांत भाई... आप दोनों का जवाब बिल्कुल सही है... बधाई...

    ReplyDelete
  7. तेज़ गति से चल रहा रॉकेट धीमी गति से चल रहे रॉकेट की तुलना में लगभग चार गुना तेज़ था.
    -
    -
    -
    क्षमा प्रभु क्षमा ....
    ज्यादा श्योर नहीं हूँ अपने जवाब के प्रति !
    दिमाग की 'बैटरी लो' चल रही है अभी !
    बस अक्कड़ बक्कड़ बाम्बे बो जैसा ही कुछ है ..... :)

    ReplyDelete
  8. क्षमायाचना की कतई ज़रूरत नहीं, प्रकाश भाई... गलती उन्हीं से होती है, जो कोशिश करते हैं...

    एक बार फिर कोशिश कीजिए, कर लेंगे आप...

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. ब्रह्मानंद जी, आपका यह जवाब भी बिल्कुल सही है... बधाई...

    ReplyDelete
  12. Deepak Bhai, ek aur post mein bhi yehi jawaab diya hai... Apna EMail ID likh diya karein, main jawaab bhej doonga...

    ReplyDelete
  13. दो गुना रफ़्तार से

    anil

    ReplyDelete
  14. Anil ji... Afsos, lekin aapka jawaab sahi nahin hai...

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sohit, jawaab bilkul sahi hai... Badhaai... :-)

      Delete
  16. Vivek bhai is pheli ne to preshaan ker diya muze, kal se hal ker rha hun hal hi nhi ho rhi h, main ise hal ker paunga ya ni

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bhai, paheliyon ka maqsad dimaagi kasrat hi hota hai, jo pareshaan kiye bina ho hi nahin sakti... Aur haan, koshish karte rahoge, to zaroor hal kar paaoge... Best of luck... :-)

      Delete