Saturday, December 12, 2009

नकली सिक्कों का बोरा...

विशेष नोट : अगर आप जवाब ढूंढ लेते हैं तो ठीक, वरना कमेंट लिख दीजिएगा, मैं जवाब आपको मेल के जरिये भेज दूंगा...


सोने के प्रत्येक सिक्के का वज़न एक ग्राम है, और नकली सिक्के का वज़न 1.1 ग्राम...

अब आपको दिए गए हैं, बराबर संख्या में सिक्के भरे 10 बोरे, जिनमें से किसी एक में नकली सिक्के भरे हैं...

आपके पास एक बिल्कुल सही वज़न बताने वाला डिजिटल तराजू (जैसा सुनारों के पास होता है) भी है, जिसे आप सिर्फ एक बार इस्तेमाल कर सकते हैं...

अब क्या आप मुझे बता सकते हैं कि नकली सिक्कों वाला बोरा कौन-सा है...

और हां, बोरा खोलने या सिक्के निकालने पर कोई पाबंदी नहीं है, लेकिन नकली सिक्के बनाने वाला बेहद काबिल है, सो, देखकर सिक्का नहीं पहचाना जा सकता...

33 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. JARA JALDI BATAAYIYEGA KI MERA PRAYAAS SAFAL RAHA KI NAHI ?

    ReplyDelete
  3. न समझने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता, दोस्त... यही जवाब है इसका... हमेशा की तरह आपका जवाब काटकर आपके कमेंट को ज्यों का त्यों परोस रहा हूं, बाकी दोस्तों के सामने...

    "वाह विवेक भाई वाह
    प्रशंसा करनी होगी इस लाजवाब पहेली की !
    मैं इस पहेली को भी नामुमकिन ही मान बैठा था लेकिन पहले की "पुल पार करने वाली" पहेली की याद ताजा थी !
    सोच रहा था कि गलत पहेली तो आप देंगे नहीं फिर इस पहेली का हल क्यूँ नहीं निकल रहा है ! दसियों बार तो पहेली को पढ़ ही चुका था ! एक-एक शब्द को ध्यान से पढ़ा तो इस पंक्ति -"बोरा खोलने या सिक्के निकालने पर कोई पाबंदी नहीं है" पर दिमाग अटक गया ... लगा कि जरूर इसमें ही कोई राज है ! बस दिमाग का सारा जोर इस पर ही लगा दिया ! हो सकता है आपके पास इस पहेली का कोई और भी कारगर हल हो लेकिन मेरे तरीके से भी आप इस पहेली को सुलझा सकते हैं !
    आपसे आग्रह है कि जो मैंने हल निकाला है उसको आप ध्यान से समझें ! जल्दबाजी में इसको गलत न मान लें !
    तो देखिये तरीका इस प्रकार है :
    ---------- ---------- ----------
    ---------- ---------- ----------
    ---------- ---------- ----------
    ---------- ---------- ----------
    ---------- ---------- ----------
    विवेक भाई आशा करता हूँ की आप समझ गए होंगे !
    अगर जरा भी आपको आशंका हो तो कहियेगा ... मैं दुबारा आपको बताने का प्रयास करूंगा !"

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया, अन्तर भाई... सही जवाब... बधाई...

    ReplyDelete
  7. har bore me se 100 100 sikke nikal kar hath se vajan kar judge kar sakte hai kon sa bhari hai. Ant me bhari wale to weigh scale me dal kar confirm kiya ja sakta hai.

    Agar jawab galat hai to sahi jawab email karne ki krupa kare - yogdeep@hotmail.com

    ReplyDelete
  8. Deepesh bhai, 100 sikke haath mein hone ke baavjood vajan mein sirf 100 gram ka antar hoga, jise pehchaan-na mushkil hota hai...

    Aur doosri baat, ek haath mein 100 sikke pakad sakte ho kya...?

    Ek baar phir koshish karo, dost... :-)

    ReplyDelete
  9. दूसरा तरीका मुझे समझ आता है वो इस प्रकार है -
    हर बोरे मे से 1 सिक्का निकाल कर तराज़ू पर रखते जायेंगे. चूंकि एलेक्ट्रोनिक वजन है, और हर सिक्के डालने पे वह 100 ग्राम से बढ़ जाएगा. किन्तु नकली बोरा का सिक्का डालते ही वजन 101 ग्राम बढ़ जाएगा. जैसे छठवा बोरा नकली सिक्को का है तो इस बोरे का सिक्का डालते ही वजन 601 ग्राम हो जाएगा. इस प्रकार का उपयोग क्या एक बार इस्तेमाल की परिधि मे आयेगा ?

    जवाब सही नहीं हो तो माइल करे yogdeep@hotmail.com

    ReplyDelete
  10. छठे सिक्के का नंबर आते-आते आप तराजू को छह बार इस्तेमाल कर चुके होंगे, जो पहेली की शर्तों के मुताबिक वर्जित है... एक बार फिर कोशिश करें, दीपेश भाई...

    ReplyDelete
  11. विवेक भाई,
    इस पहेली का उत्तर आपसे सुनना पड़ेगा. मुझे ऐसा लगता है, कुछ बहुत छोटी सी चीज़ मैं छोड़ रहा हूँ.
    Mail me at yogdeep@hotmail.com

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  13. जवाब बिल्कुल सही है, वन्दना... बधाई... :-)

    ReplyDelete
  14. plz mail me the answer of the paheli- samosa khaya nai kyo?
    juta pehna nai kyo?
    my e-mail id is- surbhi1234sharma@gmail.com

    ReplyDelete
  15. har bore se 1 sikka nikal kar un 10 sikko ko tarazu me dal denge to digital tarazu me total vazan hoga=10.1 gram
    ab tarazu se ek-ek kar k sikka uthayenge jis sikke ko uthane par digital tarazu se 1.1 gram kam ho jaye wahi bhari sikka hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. Zainul bhai, aapke jawaab mein bhale hi sikke ek baar mein taraazu par rakh diye aapne, lekin taraazu se har baar sikka uthaate hi wazan dekhne par usko agla istemaal maana jaayega, so, koi aur tareeka socho... Yeh jawaab galat hai... :-)

      Delete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dharampal bhai, jawaab sahi hai... Badhaai... :-)

      Delete
    2. This comment has been removed by a blog administrator.

      Delete
    3. Jawaab bilkul sahi hai, Monu bhai... Badhaai... :-)

      Delete
  17. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  18. sir iska jawaab hame email kar dijiye
    mohammad.imran496@gmail.com

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Tumhaara jawaab bilkul sahi hai, Jairam... Badhaai... :-)

      Delete
  21. मैनें सही उत्तर दिया हुआ है फिर भी आज याद नहीं आ रहा, कमाल है!!!
    खैर

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रणाम, अन्तर भाई...

      कहते हैं, पहेली सुलझाने का अपना अलग ही नशा है... चलो, लॉटरी लग गई तुम्हारी... एक बार पहले मज़ा ले चुके हो, और अब भूल गए हो, तो दोबारा वही आनन्द पा सकते हो... ;-)

      Delete
  22. send me answr on my mail rehan_manoj@rediffmail.com

    ReplyDelete
  23. Kindly mail me the answer on jitendra@jeevanrakshak.org

    ReplyDelete
    Replies
    1. Jitendra ji (IACDarbhanga), kam se kam ek baar to jawaab talaashne ki koshish keejiye, aur main vaada karta hoon, agar aap in paheliyon ko hal nahin kar paayenge, to mail jawaab zaroor bhej doonga... Best of luck... :-)

      Delete