Wednesday, December 29, 2010

सार्थक और रंगीन पेन्सिलें... (Saarthak and coloured pencils...)

विशेष नोट : अगर आप जवाब ढूंढ लेते हैं तो ठीक, वरना कमेंट लिख दीजिएगा, मैं जवाब आपको मेल के जरिये भेज दूंगा...

एक दिन मैं बाज़ार से अपने बेटे सार्थक के लिए कुछ रंगीन पेन्सिलें लेकर आया, जिनकी फरमाइश वह काफी लंबे समय से कर रहा था...

मैंने उससे वादा किया कि यदि वह आज्ञाकारी बच्चा बना रहेगा, औऱ उसके स्कूल से कोई शिकायत नहीं आएगी, तो मैं उसे रोज़ कुछ पेन्सिलें देता रहूंगा...
  • पहला दिन बीता, और मैंने उसे एक जमा बची हुई पेन्सिलों का सातवां भाग दे दिया...
  • दूसरा दिन बीता, और मैंने उसे दो जमा अब बची हुई पेन्सिलों का सातवां भाग दे दिया...
  • यह क्रम जारी रहा...
  • अब अंतिम 'n'वें दिन मैंने उसे बची हुई 'n' पेन्सिलें दे दीं...
अब क्या आप लोग मुझे बता सकेंगे, यह पेन्सिल वितरण कितने दिन चला, तथा सार्थक को कुल कितनी पेन्सिलें मिलीं...?

Now, the same riddle in English...

Special Note: If you succeed in solving this one, well and good; but in case, you don't, just leave a comment, and I will mail the answer to you...

One fine day, I brought home some colour pencils he has been asking for, for quite a long time...

I promised to give him some of them daily if he behaves, and I don't receive any complaint from his school...
  • So, the first day passed, and I gave him one plus one-seventh of the remaining pencils...
  • On the second day, I gave him two plus one-seventh of the now remaining pencils...
  • This continued...
  • On the 'n'th day, the remaining 'n' pencils were given to him...
Now, can you guys tell me, how many days did this pencil distribution take, and how many pencils were given to Saarthak altogether...?

10 comments:

  1. एक जमा बची हुई पेन्सिलों का ???
    दो जमा अब बची हुई पेन्सिलों का ???

    गुरुदेव समझ में आये तो कुछ आगे बढ़ें .....

    ReplyDelete
  2. पहले दिन - एक पेन्सिल दी, और फिर बची हुई पेन्सिलों को सातवां भाग...
    दूसरे दिन - दो पेन्सिलें दीं, और फिर उसके बाद हाथ में बची पेन्सिलों का सातवां भाग...
    तीसरे दिन - तीन पेन्सिलें दीं, और फिर उसके बाद हाथ में बची पेन्सिलों का सातवां भाग...
    बस, इसी प्रकार अंतिम दिन तक...
    ...और अंतिम दिन उतनी ही पेन्सिलें बची थीं, जितनी उस दिन की संख्या थी...

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  4. जवाब कतई सही है, दीपक... बधाई... :-)

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  6. Bingo, Prakash bhai... Bilkul sahi hai aapka jawaab... Badhaai... :-)

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Rajat, tumhaara jawaab bilkul sahi hai... Badhaai... :-)

      Delete