Monday, August 30, 2010

मेरे घर में बनी स्टडी... (Study in my home...)

विशेष नोट : अगर आप जवाब ढूंढ लेते हैं तो ठीक, वरना कमेंट लिख दीजिएगा, मैं जवाब आपको मेल के जरिये भेज दूंगा...

मैं अपने बरेली वाले घर में स्टडी बनवा रहा था, सो, लकड़ी की मेज़-कुर्सियां, अलमारियां और रैक इत्यादि बनने का काम जारी था...

एक दिन बढ़ई ने अचानक मुझे बताया कि उसे कुछ और लकड़ी की ज़रूरत पड़ेगी, और उसने मुझे यह भी बताया कि उसे कितनी लंबी लकड़ी की ज़रूरत है...

मैंने अपने बेटे सार्थक को वह लंबाई बताई और लकड़ी खरीद लाने के लिए कहा, लेकिन वह लकड़ी खरीदते गलती से फुट और इंच पलट बैठा...

अब, जब सार्थक वापस पहुंचा, तो बढ़ई ने लकड़ी को नापा और बताया कि जितनी लकड़ी की ज़रूरत है, उसका 5/8वां हिस्सा ही उसे मिला है...

अब क्या आप लोग मुझे बता सकेंगे, बढ़ई ने वास्तव में कितनी लंबी लकड़ी की ज़रूरत बताई थी...?

Now, the same riddle in English...

Special Note: If you succeed in solving this one, well and good; but in case, you don't, just leave a comment, and I will mail the answer to you...

I was getting the study built in my Bareilly home, with the wooden table, chair, and almirahs and racks...

One day, the carpenter suddenly told me that he needed some more length of the timber, and he told me the specific length too...

I then asked my son Saarthak to go to the market and buy the exact length of wood, but he accidentally interchanged the feet and inches...

Now, when he returned, that carpenter measured the wooden pole and told me that he has got only the 5/8th of the required length...

Now, can you guys tell me, what length did the carpenter originally ask for...?

6 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  3. जवाब बिल्कुल सही है, प्रकाश भाई...

    और हां, गड़बड़ आपके भतीजे ने की थी, मुझे क्यों डांट रहे हो, यार... ;-)

    अब आपका कमेंट कॉपी-पेस्ट...

    "बढ़ई ने वास्तव में ----- लकड़ी मंगाई थी और आप ले आये थे -----...
    आईंदा ध्यान से सुनियेगा कारीगर की बात, खामखा नुक्सान हो गया न :)"

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bilkul sahi jawaab, Sohit... Badhaai ho... :-)

      Delete